District Inspector of Schools Allahabad

Important Links
UP Government
Secondary Education
Basic Education
Basic Shiksha Parishad
Madhyamik Shiksha Parishad
SCERT Lucknow
UP EDUCATION FOR ALL
MIS
NCERT
Allahabad High Court
Indian Railway
MID DAY MEAL
News & Events Games Scout & Guides
 

Road Safety -2014-15

    विभिन्न खेलों के लिए अपने रूझान के अनुसार जनपद के खेल शिक्षक अपना नाम व कोई एक खेल जिसके आयोजन और प्रशिक्षण में रूचि व उस खेल की विधा में पूर्ण पारंगत हो क्रीड़ा विभाग में भेजें।
    जिन विद्यालयों को जनपदीय खेलों के लिए संयोजक नियुक्त किया गया है वह अपने विद्यालय एवं जनपदीय खेलों के आयोजन व प्रशिक्षण योजना को ईमेल की सहायता से भेजें। अपडेट
    समस्त ऐसे शिक्षकों व शिक्षिकाएं जिन्हे मण्डल एवं प्रदेश स्तर पर टीम के साथ कोच व मैनेजर के रूप में सत्र 2013-14 में टीम के साथ प्रतिभागिता हेतु गये थे वह अपने बिल बाउचर शीघ्र प्रस्तुत करें। अपडेट
    समस्त विद्यालयों के प्रधानाचार्य/प्रधानाचार्याएं यह सुनिश्चित करें कि विद्यालयों के क्रीड़ाध्यक्ष एवं क्रीड़ाध्यक्षाओं को खेल के अतिरिक्त किसी अन्य विषय का अतिरिक्त प्रभार समय सारिणी ना दिया जाये साथ ही उन्हे कक्षाअध्यापक न बनाया जाये। अपडेट
    प्रधानाचार्य विद्यालय के क्रीड़ाध्यक्ष एवं क्रीड़ाध्यक्षओं का आवगमन रजिस्टर बनवायें और उनके विद्यालय के बाहर जाने और वापस आने के स्पष्ट कारण सहित उन्हे इजाजत दें। अपडेट
    प्रत्येक विद्यालय सप्ताह में एक दिन अपने विद्यालय में कोई एक खेल के अन्र्तविद्यालीय मैच अवश्य आयोजित करें एवं सूचना जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय और समस्त समाचार पत्रों में भी अवश्य प्रकाशित करें। अपडेट
    स्काउट एण्ड गाइड के काउंसलर प्रत्येक विद्यालय में बालचर योजना के तहत तैयार करेगें स्काउट एवं गाइड के प्रशिक्षु
    ब्लाक स्तर पर होगा विद्यालयों में स्काउट एण्ड गाइड दलांे का गठन
    स्काउट मास्टर और गाइड कैप्टन को दिया जायेगा अधिकार पत्र
    सभी प्राथमिक विद्यालय, ब्लाक स्तर पर स्काउड एण्ड गाइड को प्रेरित करें। अपडेट

• समस्त राजकीय, सवित्त,एवं वित्तविहीन विधालय बेवसाइट पर अपने विधालय का सम्पूर्ण व्यौरा जिला विधालय निरीक्षक द्वारा दिये गये प्रोफार्मा पर उपलब्ध करायें।
• समस्त विधालय अपने परिसर में कोचिंग सेन्टर एवं शादी- विवाह व अन्य वाहय समारोह जो गैर शैक्षिक हो न करें।
• जनपद के समस्त विधालय मैदान में प्रात: सायंकाल प्रशिक्षण हेतु जनपद के सभी छात्रछात्राओं को नि:शुल्क सुविधा दी जायेगी। विधालयों के प्रधानाचार्य एवं प्रधानााचार्या सुविधा मुहैया करायें।
• प्रत्येक विधालय में स्काउट एण्ड गाइड के ट्रेनर बच्चों को नियमित प्रशिक्षण प्रदान करें।
• समस्त राजकीय, सवित्त एवं वित्तविहीन माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक विद्यालय अपने विद्यालय में मार्शल आर्ट की विद्या में छात्र एवं छात्राओं को खेल प्रशिक्षण के साथ प्रशिक्षित करना सुनिश्चित करें। अपडेट
Share Your Views.
Teacher Listen to Student in School.
Always:
Often:
Never:
Dont Know:
New Circular
Teachers Cornor
• जनपद के समस्त शिक्षक एवं शिक्षिकाएं अपनी शैक्षिक गुणवत्ता को सुधारने के लिए शैक्षिक कार्ययोजना बनाएं।
• सभी शिक्षक एवं शिक्षिकाएं अपनी शैक्षिक दैननिदनी प्रतिदिन अवश्य पूर्ण करें। निरीक्षण के दौरान दिखाएं।
• अमृता मिश्रा- किदवर्इ गल्र्स इण्टर कालेज- छात्राओं को पढ़ने के साथ स्वमूल्यांकन कर अपनी क्षमता को विकसित करना सार्थक सिद्ध होगा।
• के0पी0वर्मा- डा0के.एन.काटजू इण्टर कालेज- छात्रों द्वारा अध्ययन और अध्यापकों के द्वारा अध्यापन की शैली को प्रेरणादायी और रोचक बनाते हुए स्वीकार करना जीवन के लिए सुखदायी होता है।
• करूणा शंकर- गांधी इण्टर कालेज- आत्मबल और रूझान किसी भी विषय में अध्यापक व छात्र एवं छात्राओं सभी को पूर्णता की ओर अग्रसर करता है।
• पारूल यादव (जीजीआर्इसी सिविल लाइंस)- यू0पी0 बोर्ड के बच्चों के घटते शैक्षिक स्तर के लिए हम सभी शिक्षकों को विस्तार से सोचने की जरूरत है और पठन-पाठन की शैली में बदलाव लाने की ओर सोचना होगा।
• मधू यादव (जीजीआर्इसी सिविल लाइंस) - शिक्षक व शिक्षिका समाज में अपने अनुभव और स्वयं की सोच की बदौलत हजारों बच्चों में शिक्षा का अमृत घोल शिक्षित समाज का निर्माण कर सकते हैं लेकिन उससे पूर्व यह भी सोचना होगा कि शिक्षा प्राप्त करने वाले बच्चे मेरे, हमारे नही बलिक समाज के अभिन्न अंग है और समाज का निर्माण करना ही हमारा वास्तविक दायित्व है।
• अजय सिंह यादव (खेल सचिव)- सिर्फ सोचने से नही बलिक कार्यो का कि्रयान्वयन और शिक्षा को आकर्षण बनाने की कला ही छात्रों को आकर्षित करता है। इसलिये हम सभी शिक्षकों को अपने अनुभव और कि्रयात्मक पहलू को ध्यान में रखकर छात्र एवं छात्राओं के बीच उन्हे शैक्षिक परिदृश्य के शिखर पर ले जाने का प्रयास करना चाहिये।
Parents Cornor
• समस्त अभिभावक यदि अपने बच्चों को उनके स्वयं के वाहन से विधालय भेजते है तो उन्हे धैर्यपूर्वक विधालय जाने को प्रेरित करें।
• यदि बच्चे दुपहिया बाइक या स्कूटी से विधालय जाते हैं तो यह सुनिशिच करें कि हेलमेट का प्रयोग अवश्य हो।
• कृपया अपने बच्चों को शैक्षिक गतिविधियों के लिए सदैव प्रेरित करें एवं अनुशासन व संयम के लिए जागरूक करें।
• बच्चों की मानसिक सिथत पर स्वयं ही मंथन कर उन्हे उच्च विचार की ओर प्रेरित करना अभिभावक की नैतिक जिम्मेदारी है।
• बच्चों के साथ चिड़चिड़ेपन का स्वरूप ना प्रस्तुत करें
Developed & Maintained By SM INFOSYSTEM CONTACT ABHISHEK @ 9026740919